छत्तीसगढ़ में छात्रों के परिजन, विधायक के परिवार और सोनी सोढ़ी को मिल रही पुलिस अफसरों की धमकी

सरकारी नक्सलवाद के खिलाफ 22 को आवाज बुलंद करेगा बस्तरिया आदिवासी

छत्तीसगढ़ सरकार में अफसरों के मैडल और प्रमोशन के लिए करवाई जा रही आदिवासियों की लगातार हत्याओं के बाद आदिवासियों के उठते आवाज को दबाने की नाकाम कोशिश में बस्तर पुलिस के अफसर लगे हुए है | इसके लिए ये कुछ भी कर गुजरने को तैयार हैं | बुरगुम फर्जी मुठभेड़ में छात्रों की हत्याओं के मामले में सुलेंगा और गड़दा में जाकर पुलिस ने ग्रामीणों को धमकी दी है | वहीँ छात्रों के नजदीकी रिश्तेदार सुदराम कश्यप बारसूर के नजदीक स्थित पोटाकेबिन हितामेटा में अनुदेशक के पद पर कार्यरत है | इसी पोटाकेबिन के छात्रों की हत्या छत्तीसगढ़ सरकार की बस्तर पुलिस ने कर दी है | इस मामले की लीपापोती करने पोटाकेबिन हितामेटा और गड़दा गाँव में पुलिस लगातार गाड़ियाँ लेकर पहुँच रही हैं |

सुखराम कश्यप का कहना है कि “डीएसपी मंडावी आश्रम में दो-तीन बार आ चुके हैं | वे हम पर दबाव बनाने आ रहे हैं | वे कह रहे थे कि जो हुआ उसे भूल जाओ, गलती से हो गया, पार्टी-उर्टी के चक्कर में मत रहो, कोर्ट-कचहरी में जाने से नेतागिरी करने से कुछ नहीं होगा, ये नेता लोग सिर्फ राजनीति करेंगे, हमारा कुछ भी नहीं बिगाड़ सकते हैं, इससे अच्छा है कि इसे यही ख़त्म कर दो, हम तुम्हे इससे अच्छी नौकरी देंगे, पैसे देंगे, गाँव में पुलिस वाले जाकर बोल रहे थे कि थाने आकर चावल, दाल, पैसा ले जाओ, मामले को आगे बढ़ाने से कुछ भी नहीं मिलेगा |”

 

छात्रों के परिजनों ने रविवार को मीडिया के सामने कांग्रेस भवन में बताया कि “पिछले माह शोक-संदेश देने दोनों बच्चे अपनी बहन के पास गए थे जहां सर्चिंग पर निकली फोर्स ने सोते बच्चों को उठाकर ले गई और जंगल में मार दिया अब उन्हें नक्सली बता रही है और हमें बयान बदलने कह रही है ऐसा नहीं करने पर जेल में डालने की धमकी भी दे रहे है । पुलिस हमारे बेटों को घर से उठा कर ले गई और जंगल में मार दिया अब बच्चों को नक्सली बताकर हमें जेल भेजना चाहती है हमारी जान को खतरा है, इसलिए सुरक्षा के लिए एक सप्ताह से दंतेवाड़ा आकर विधायक की पनाह में हैं हम नक्सली नहीं हैं | मारडूम थानेदार शुक्ला लगातार बयान बदलने के लिए दबाव बना रही है । विधायक सहित परिजनों ने मृतकों के शव पोस्टमार्टम पर भी सवाल उठाएं उन्होंने कहा कि किसी भी पुलिस प्रकरण में पोस्टमार्टम के दौरान परिजनों की उपस्थिति और सहमति जरूरी होती है | लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं हुआ पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करने के बाद परिजनों को मारे जाने की सूचना दी थी | परिजनों में बिजलु के पिता नड़गू, सोनकू के पिता पायकू, बहन मासे और जीजा लक्ष्मण शामिल थे |”

 

विधायक देवती कर्मा का कहना है कि “डीएसपी मंडावी उन्हें और उनके पुत्र को लगातार धमकी दे रहे हैं कि उन्होंने नक्सली सहयोगियों को घर में पनाह दी है | नक्सल समर्थकों का सहयोग करने के मामले में वे विधायक और उनके पुत्र के खिलाफ मामला दर्ज कर जेल भेज देंगे | असल में जो मुठभेड़ होते हैं उसका विरोध हम कभी नहीं करते हैं लेकिन मुठभेड़ के नाम पर आदिवासियों को मारा जा रहा है | कुछ पुलिस अधिकारी मैडल पाने व कद बढाने की चाहत में फर्जी मुठभेड़ को अंजाम देकर आँकड़े बढ़ाने में लगे हैं | जिन्होंने ने मासूम बच्चों को मारा है उन पर हत्या का मुकदमा दर्ज हो | यदि भविष्य में कर्मा परिवार पर हमला हुआ तो आईजी कल्लूरी और एसपी आरएन दाश जिम्मेदार होंगे |”

 

छविन्द्र कर्मा का कहना है कि “पुलिस वाले परिजनों को बयान वापस लेने दबाव बना रहे हैं | डीएसपी भाल सिंह मंडावी ने मुझे फोन किया | तो मैंने कहा चाय दूकान में हूँ आ जाइए मामाजी | हालचाल पूछे और बोले मैं बुरगुम वाले केस में जांच अधिकारी हूँ | इस मामले में जिन्होंने इन्हें शरण दिया है उनके खिलाफ भी एफआईआर होगा | मैंने बोला पुलिस द्वारा गलत किये जाने के बाद पीड़ित परिवार जनप्रतिनिधियों के पास नहीं जायेगा तो किसके पास जायेगा | फिर वे कहने लगे वो सप्लाई टीम के सदस्य थे | मैंने बोला किसी को भी नक्सली बता दोगे क्या | ये लोग दबाव बनाने के लिए कई कांग्रेसी नेताओं को फोन कर रहे हैं और मिल रहे हैं | और कह रहे हैं कि इस मामले को निपटाओ | आप ही बताइये कैसे निपटायें | जिन्होंने हत्या की है उनके उपर 302 का अपराध दर्ज होना चाहिए | पुलिस मेरे परिवार पर एफआईआर कराने की धमकी दे रही है | जबकि हमारा परिवार नक्सलियों के खिलाफ रहा है, जिसके कारण हम हमेशा नक्सलियों के निशाने पर रहे हैं | हम छत्तीसगढ़ सरकार में आदिवासियों की नक्सलियों के नाम पर हो रही हत्याओं का विरोध करते हैं | इस सरकार से न्याय की उम्मीद बेमानी है यदि सरकार ने कारवाई नहीं की तो मामले को न्यायालय में ले जायेंगे|”  डीएसपी भाल सिंह मंडावी से संपर्क तो नहीं हो पाया किन्तु उनके नाम से एक स्टेटमेंट सोशल मीडिया में जरूर जारी हुआ है जिसमें वे अपने आदिवासी गोंड समुदाय से होने की दुहाई दे रहे हैं और कर्मा परिवार के करीबी होने के कारण ऐसा कृत्य करने से इनकार कर रहे हैं |

 

सोनी सोढ़ी ग्रामीणों से मिलने मारडुम थाना क्षेत्र के इन गाँवों के दौरे पर गई थी | सोनी सोढ़ी ने कहा है कि “इससे पहले हिड़मो पिता बुडोड़ी वाले मामले में मैं इसे पुलिस मुख्यालय में डीजीपी तक ले गई, जो मारडुम थाने के अंतर्गत ही था तो मेरे उपर केमिकल अटैक हुआ | इस बार भी मैं मारडुम क्षेत्र के गाँव गई थी तो गाँव वालों से पता चला कि इस बार मुझे पुलिस वाले मार डालेंगे | एक गाँव में सभा आयोजित कर मारडुम पुलिस के थानेदार शुक्ला ने यह सब कहा है | यह सब बोलने की छुट छत्तीसगढ़ सरकार और बस्तर आईजी कल्लूरी के कहने पर मिली है | इससे पहले भी हिड़मो वाले मामले को मैं सामने लाई तो मुझे धमकीयाँ मिली और इस बार भी जान से मारने की धमकी मिल रही है |”

sulenga jpg

आपको मालुम होगा कि इससे पहले छत्तीसगढ़ सरकार पर आरोप लगे कि सुलेंगा गांव से बीते 03 फरवरी 2016 की सुबह सोते हिड़मो को मारडुम पुलिस उठाकर ले गई और एक लाख रुपए का इनामी माओवादी बताकर फर्जी मुठभेड़ बताकर हत्या कर अखबारों में प्रकाशित करवा दिया | बस्तर पुलिस ने अपना टार्गेट पूरा करने के लिए सात बच्चों को अनाथ बना दिया। एक बार पहले भी हिड़मो को पुलिस पकड़ कर ले गई थी। जिसमें उसे बरी कर दिया गया था। आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधि मंडल के साथ पीडि़त परिवार ने पुलिस महानिदेशक एएन उपाध्याय को शिकायत की थी जिस पर पुलिस महानिदेशक ने जांच कर कारवाई का भरोषा जताया था | किन्तु जांच और कारवाई में देरी के कारण पुलिसिया हत्याओं का सिलसिला बदस्तूर जारी है |

 

आपको यह भी बताते चले कि पिछले माह बुरगुम के सांगवेल में मुठभेड़ में दो नाबालिग छात्रों को नक्सली बताकर पुलिस ने फर्जी मुठभेड़ में मार गिराया था | मौके पर मुआयना करने गए आदिवासी नेताओं ने सरकारी हत्या के शिकार लड़कों को हितामेटा पोटाकेबिन का छात्र बताया था | जिनके निवास, जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पाने की वजह से पढ़ाई छोड़ दी थी और प्राइवेट परीक्षा की तैयारी कर रहे थे | घटना स्थल जाने के दौरान कांग्रेसी विधायक दल को पुलिस ने रोकने की भी कोशिश की थी । छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने मांग की है कि कथित एनकाउंटर में शामिल पुलिस कर्मियों पर हत्या का मामला दर्ज किया जाये, बस्तर के आईजी एसआरपी कल्लूरी को तत्काल बर्खास्त किया जाये तथा दोनों मृत बच्चों के परिजनों को 20-20 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाये |

 

आंध्र के नक्सली क्यों नहीं करते आत्मसमर्पण

छविंद्र कर्मा ने एसआरपी कल्लुरी पर सवाल उठाते कहा कि “कल्लुरी साहब ने अब तक आंध्र प्रदेश के एक भी नक्सली को न गिरफ्तार किया और न ही आत्मसमर्पण कराया है जबकि छत्तीसगढ़ में वारदात करने वाले बड़े नक्सली नेता आंध्रप्रदेश के होते हैं | पुलिस और सरकार कह रही है कि अंदरूनी क्षेत्रों का विकास हो रहा है तो फिर नक्सली समस्या का समाधान क्यों नहीं हो रहा है | सरकार उल्टे पीड़ित परिवार को बयान बदलने दबाव बना रही है । कल पीड़ित परिवार अपने गांव लौटेगा, इसके बाद इनके साथ कुछ अनहोनी होती है तो इसकी जवाबदारी पुलिस की होगी |

 

कल्लूरी हटाओ बस्तर बचाओ की मुहीम शुरू

बीते साल तक सोनी सोढ़ी द्वारा अब तक उठाये जा रहे कथित मुठभेड़ के मामले को राजनैतिक प्रेरित ही समझा जाता था | लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार और इस सरकार में पदस्थ बस्तर आईजी शिव राम प्रसाद कल्लूरी के सोनी सोढ़ी पर लगाए गए तमाम आरोपों के बावजूद वह डटी रही | इसका नतीजा अब देखने को मिल रहा है | बस्तर से लेकर राजधानी तक आदिवासी छात्र हो या आदिवासी नेता सभी कल्लूरी हटाओ बस्तर बचाओ की मुहीम चला रहे हैं | छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा से लेकर राजधानी रायपुर तक मुख्यमंत्री रमन सिंह और बस्तर आईजी शिव राम प्रसाद कल्लूरी के पुतले फूंके जा रहे हैं | पुलिसिया अत्याचारों के खिलाफ छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के शोषण एवं सरकारी दमन के खिलाफ आन्दोलन का सिलसिला शुरू हो गया है | छत्तीसगढ़ सरकार के इस दमनकारी नीति के खिलाफ आने वाले दिनों में आदिवासियों का चरणबद्ध आन्दोलन देखने को मिल सकता है | सरकारी नक्सलवाद के खिलाफ 22 को आवाज बुलंद करेगा बस्तरिया आदिवासी|

Prabhat Singh

प्रभात सिंह बस्तर के युवा पत्रकार हैं | जो देश की पत्रकारिता में एक उभरता हुआ नाम है । इनके नाम का भय छत्तीसगढ़ के भ्रष्ट अफसरों और नेताओं में घर कर गया है । इन्हें आदिवासीयों के साथ हो रहे अत्याचार, फर्जी मुठभेड़, फर्जी गिरफ्तारी, भ्रष्टाचार जैसे मामलों पर लिखने के कारण छत्तीसगढ़ सरकार ने फर्जी मामले बनाकर जेल में डाल दिया था | तीन माह बाद जेल से बाहर आकर दुबारा भूमकाल समाचार के माध्यम से आदिवासियों की आवाज बुलंद कर रहे है |

2 thoughts on “छत्तीसगढ़ में छात्रों के परिजन, विधायक के परिवार और सोनी सोढ़ी को मिल रही पुलिस अफसरों की धमकी

  • 10/10/2016 at 4:55 PM
    Permalink

    भुमकाल समाचार
    वाकई मे सच्चाई से सत्य प्रकाशित कर रहा है.
    जो काम पत्रकारीता के जरीये करना चाहीएे वही दिशा से काम हो रहा है. देश के संसद के चौंथे पिल्लर का काम साबित करते प्रभात सिंह जैसे सच्चे तथा निर्भय पत्रकारीता का प्रमाण दे दिया है.
    आपके देश के शोषित पिडीत दलित आदिवासी तथा अल्पसंख्याक वर्गो का आवाज होने पर गर्व महसूस हो रहा है.

    Reply
    • 10/10/2016 at 4:59 PM
      Permalink

      भुमकाल समाचार
      वाकई मे सच्चाई से सत्य प्रकाशित कर रहा है.
      जो काम पत्रकारीता के जरीये करना चाहीएे वही दिशा से काम हो रहा है. देश के संसद के चौंथे पिल्लर का काम साबित करते प्रभात सिंह जैसे सच्चे तथा निर्भय पत्रकारीता का प्रमाण दे दिया है.
      आपके देश के शोषित पिडीत दलित आदिवासी तथा अल्पसंख्याक वर्गो का आवाज होने पर गर्व महसूस हो रहा है.

      एक पत्रकारीता का विद्यार्थि तथा फिलहाल ट्रेनी पत्रकारीता पर काम करते करते समस्या से झुलसने से लिख रहा हू.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *