डॉक्टर गोपीनाथ की उपलब्धियों से छत्तीसगढ़ गौरवान्वित

डॉ. गोपीनाथ की उपलब्धियों से छत्तीसगढ़ गौरवान्वित
छत्तीसगढ़ से आईएसपी के लिए पहला कार्यकारी सदस्य का सम्मान

डॉ. वी गोपीनाथ भारतीय सोसायटी ऑफ पेरिओडॉन्टोलॉजी (आईएसपी) के कार्यकारी समिति के लिए छत्तीसगढ़ से पहला कार्यकारी सदस्य चुने गए है। छत्तीसगढ़ में दंत चिकित्सा जगत में चर्चित डॉ. गोपीनाथ फिलहाल प्रोफेसर एवं प्रमुख पेरियोडॉन्टोलॉजी विभाग छत्तीसगढ़ दंत चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र सुन्दरा, राजनांदगांव छत्तीसगढ़ पदस्थ हैं। उन्हें यह पद सम्मान 21 से 23 अक्टूबर 2016 को आईएसपी द्वारा नागपुर में आयोजित राष्ट्रीय कान्फरेन्स के समारोह में मिला है। वे छत्तीसगढ़ राज्य के पहले पेरिडयोडॉन्टोलॉजी में चयनित समिति सदस्य कहलाएंगे।

छत्तीसगढ़ के लिए इस गौरव को डॉ. एआर प्रदीप प्रधान, डॉ. अभय कोल्टे, सेक्रेटरी (आईएसपी) डॉ. निरज देशपांडे संयुक्त सचिव, सम्पादक बालाजी मनोहर ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। इस अवसर पर सभी ने आशा जताई हैं कि वे जनता के बेहतर मुख स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय नीतियों को बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे। डॉ. हेमा सूर्यवंशी (डीन), डॉ. साठवने (प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष) एवं पूर्व प्रधान इंडियन एकादमी ऑफ ओरल मेडिसिन और रेडियोलॉजी, डॉ. राघवेन्द्र शेट्टी (प्रोफेसर एंड हेड डिपार्टमेंटल ऑफ पेरियोडॉन्टिक्स छत्तीसगढ़ डेंटल कॉलेज एड रिसर्ज इंस्टिट्यूट, राजनांदगांव, डॉ. कार्तिक कृष्णा प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ पेरियोलॉजी तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, यूपी) और डॉ. अक्षय ढोबले, डॉयरेक्टर ऑफ माइंड एंड माउथ थेरेपीस, नागपुर इन सभी ने डॉ. गोपीनाथ की इस उपलब्धि के लिए शुभकामनाएं एवं बधाईयां दी है।

विदित हो कि डॉ. गोपीनाथ पैसिफिक यूनिवर्सिटी उदयपुर के पीएचडी के गाइड भी हैं। नेशनल कान्फ्रेंस ऑफ इंडियन सोसयटी ऑफ पेरियोटोन्टोलॉजी इंडियन सोसायटी फॉर डेंटल रिसर्ज, इंडियन डेंटल कान्फ्रेंस, इंडियन सोसायटी ऑफ पेरियोडॉन्टिक्स रिस्टोरेटिव पेरियोडॉन्टिक्स, इंडियन सोसायटी ऑफ पेरियोडॉन्टिक्स एंड प्रिव्हेंटिव्ह डेंटिस्ट्री जैसे भव्य कार्यक्रमों के महती जिम्मेदारी उठाई है एवं सभी आयोजन के आयोजन समिति के सदस्य रहे हैं। कई डेंटल कान्फ्रेंस में पदाधिकारी रहते हुए सम्मानित हुए हैं। दुनिया में ‘धुम्रपान नहीं’ अभियान के लिए तमिलनाडु राज्य तम्बाकू नियंत्रण विभाग एवं भारतीय डेन्टल एसोसिएशन द्वारा दंत रोगों के प्रति जागरूकता एवं उनकी अच्छी सर्वोत्तम सेवाओं के लिए उन्हें सराहा है।

उल्लेखनीय है कि मदरसा यूनिवर्सिटी के द्वारा उनके कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कृत किया है। उन्होंने इस अवसर पर कलाकृति व मॉडल भी पेश किए हैं। यह आयोजन पब्लिक डेंटल एक्सपो और डेंटल ऐजूकेशन फेयर, भारतीय डेंटल एसोसिएशन, चेन्नई द्वारा आयोजित किया गया था। उन्होंने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कई सारे ख्यातियां अर्जित की है। दंत शिक्षा के क्षेत्र में उनके कार्यों की महत्वपूर्ण उपब्लिध है। डॉ. गोपीनाथ द्वारा 7 अंतरराष्टीय एवं 16 राष्ट्रीय शोध निबंध प्रकाशन किया जा चुका है। कई दांतों के कार्यक्रमों में अतिथि वक्ता रह चुके हैं। ‘बेस्ट पब्लिसर्स अॅवार्ड’ के साथ तमिल कविता ‘उन्नई अरिन्दल’ के लिए वर्ष 2001 में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पनीर सेलवम के हाथों उन्हें नवाजा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *